कल शेयर मार्केट कैसा रहेगा, बढ़ेगा या गिरेगा (इन 7 तरीकों से पता करें)

जानिए आज कैसे पता करें कि कल शेयर मार्केट कैसा रहेगा बढ़ेगा या गिरेगा, शेयर बाजार कब ऊपर जाएगा और अगले दिन निफ्टी और सेंसेक्स बढ़ेगा या घटेगा मतलब आज शेयर बाजार का हाल कैसा रहेगा?

पिछले आर्टिकल में आपने जाना कि शेयर बाजार की भविष्यवाणी करना संभव है या नहीं, जिसमें हमने बहुत सारे फैक्ट और सच्चाई के जरिए आपको शेयर मार्केट के सच के बारे में बताया था।

आज का टॉपिक भी stock market prediction के बारे में है क्योंकि आज हम पता करने की कोशिश करेंगे कि क्या सच में पता लगाया जा सकता है कि आज शेयर मार्केट बढ़ेगा या गिरेगा, मतलब आज शेयर बाजार कैसा रहेगा?

क्योंकि अगर आपको यह पता चल गया कि आज शेयर मार्केट ऊपर जाएगा या नीचे तो आप जितना चाहे उतना पैसा कमा सकते हैं।

ऐसा मैं इसलिए बोल रहा हूं क्योंकि अगर आपको पता चल गया कि आज शेयर मार्केट ऊपर जाएगा तो आप निफ्टी इंडेक्स में buying करके प्रॉफिट कमा सकते हैं और अगर आपको लगता है कि आज शेयर मार्केट नीचे जाएगा तो आप निफ्टी में short sell करके या Put option खरीदकर पैसा कमा सकते हैं।

लेकिन क्या शेयर मार्केट का अनुमान लगाना सच में संभव है, अगर हां तो कैसे? आज हम इसी टॉपिक के बारे में बात करने वाले हैं.

इस पोस्ट में आप जानेंगे-

जानिए इस हफ्ते शेयर मार्केट कैसा रहेगा?

Share Market Prediction this week
Nifty Target Range22200-22800
Bank Nifty Targets47800-48500
Market SentimentLittle Bullish

शेयर बाजार के विशेषज्ञों के अनुसार इस हफ्ते मार्केट में निफ्टी 50 इंडेक्स 22200 से 22800 लेवल्स के बीच कारोबार कर सकता है जबकि बैंकनिफ्टी 47800 से लेकर 48500 के बीच ट्रेड करने का अनुमान है. हालांकि अचानक बाजार में आई किसी पॉजिटिव या नेगेटिव न्यूज़ के चलते किसी भी साइड एक बड़ा मोमेंटम देखने को मिल सकता है।

कल शेयर मार्केट कैसा रहेगा, ऊपर जाएगा या नीचे?

Aaj share market kaise rahega
कैसे पता करें शेयर मार्केट ऊपर जाएगा या नीचे?

‘आज या कल शेयर मार्केट कैसा रहेगा ऊपर जाएगा या नीचे, इसका पता करने के लिए आप चार्ट पेटर्न, कैंडलस्टिक, वॉल्यूम, तकनीकी इंडिकेटर, ग्लोबल मार्केट इंडेक्स और ऑप्शन चैन डाटा देखकर लगा सकते हैं। बुलिश डेटा होने पर शेयर बाजार बढ़ेगा और बियरिश डेटा होने पर गिरेगा।’

Kal Share Market kaisa rahega (badhega ya girega)

आप जानते होंगे कि शेयर बाजार के कुछ एक्सपर्ट मार्केट खुलने से पहले ही बता देते हैं कि आज शेयर मार्केट बढ़ेगा या गिरेगा और काफी हद तक उनकी भविष्यवाणी सच भी निकलती है.

लेकिन आखिर ऐसा कैसे हो पाता है?

इसका जवाब है ‘डाटा‘ और इसी डाटा के आधार पर वह आज शेयर खरीदने या बेचने का निर्णय लेते हैं।

अब उन लोगों के लिए यह डाटा कुछ भी हो सकता है चाहे वह–

  1. ऑप्शन चैन का डेटा हो,
  2. ग्लोबल मार्केट का डेटा हुआ,
  3. कैंडलस्टिक चार्ट पेटर्न का डेटा हो,
  4. या फिर टेक्निकल एनालिसिस का डेटा हो।

इसका मतलब है कि डाटा के आधार पर यह कंफर्म किया जा सकता है कि आज शेयर मार्केट कैसा रहेगा. क्योंकि अगर आज बाजार में पॉजिटिव data दिखता है मतलब buying side वॉल्यूम अधिक होता है तो यह मार्केट ऊपर जाने का संकेत है।

लेकिन अगर नेगेटिव data दिखता है तो यह शेयर बाजार के गिरने का संकेत है।

मैं यहां पर सिर्फ ऑप्शन चैन डेटा की बात नहीं कर रहा हूं बल्कि वह सभी डाटा जो यह बताने में मदद करते हैं कि कल शेयर मार्केट कैसा रहेगा (ऊपर जाएगा या नीचे). चाहे फिर वह टेक्निकल एनालिसिस हो, कैंडलस्टिक पेटर्न हो या फिर तकनीकी इंडिकेटर हो।

आज हम जानेंगे कि अलग-अलग तरीकों से कैसे पता करें कि अगले दिन शेयर मार्केट कैसा रहेगा. अगर बाजार के बढ़ने का अनुमान होगा तो आप शेयर खरीद कर पैसा कमा सकते हैं और अगर बाजार के गिरने का अनुमान होगा तो आप स्टॉक बेचकर पैसा कमा सकते हैं।

आइए अब सभी महत्वपूर्ण पॉइंट एक एक करके जान लेते हैं–

1. चार्ट पेटर्न देखकर पता करें शेयर बाजार कैसा रहेगा

शेयर मार्केट बढ़ेगा या घटेगा, इसका पता आप निफ़्टी इंडेक्स के चार्ट पेटर्न को देखकर लगा सकते हैं। अगर चार्ट पर बुलिश पैटर्न बन रहा है तो बाजार ऊपर जाएगा और अगर बियरिश पैटर्न बने तो समझ जाइए कि स्टॉक मार्केट नीचे जाएगा।

अब अगर हम चार्ट पेटर्न की बात करें तो यह दो प्रकार के होते हैं– 1. Bullish और 2. Bearish इनमें जो पहला बुलिश पेटर्न होता है जो मार्केट के ऊपर जाने का संकेत होता है। और जो बियरिश पैटर्न होता है वह मार्केट गिरने का संकेत होता है।

मतलब चार्ट एनालिसिस करते समय अगर आज किसी स्टॉक या इंडेक्स पर बुलिश पैटर्न बनता हुआ दिखे तो यह मार्केट में तेजी आने की ओर इशारा है तो अगर आप आज वह शेयर खरीदते हैं तो आपको प्रॉफिट होगा।

लेकिन अगर उसी स्टॉक के चार्ट पर बियरिश पैटर्न बनता हुआ दिखे तो यह शेयर में गिरावट होने का संकेत है मतलब ऐसा पैटर्न देखते ही आप शार्ट सेल कर सकते हैं क्योंकि bearish pattern बनने का मतलब होता है कि मार्केट नीचे जाने वाला है।

शेयर मार्केट में बनने वाले सभी प्रकार के चार्ट पैटर्न के बारे में जानने के लिए नीचे दी गई पोस्ट अवश्य पढ़ें–

2. कैंडलस्टिक से जानिए बाजार की दिशा

आपको कैसे पता चलेगा कि शेयर बाजार कब ऊपर जाएगा?
कैंडलस्टिक पेटर्न से पता करें शेयर बाजार कब ऊपर जाएगा?

आपने कैंडलस्टिक के बारे में जरूर पढ़ा या सुना होगा. शेयर मार्केट का हाल जानने के लिए कैंडल स्टिक बेस्ट तरीका है यानी कि आज शेयर मार्केट कैसा रहेगा इसका पता आप कैंडलस्टिक की मूवमेंट के द्वारा आसानी से कर सकते हैं।

दोस्तों शेयर बाजार में दो तरह की कैंडल्स होती हैं– बुलिश और बियरिश.

  • बुलिश कैंडल हरे रंग की होती है जो बताती है कि मार्केट ऊपर जाएगा
  • और बियरिश कैंडल लाल रंग की होती है जो बताती है कि आज शेयर मार्केट नीचे जाएगा यानी गिरेगा।

कैंडलस्टिक कई प्रकार की हैं जैसे; हैमर, हैंगिंग मैन, मारुबाज़ू, इंगल्फिंग, हरामी, मॉर्निंग स्टार, इवनिंग स्टार आदि। इनमें से–

  • कुछ कैंडलस्टिक तेजी का संकेत देती है तो कुछ कैंडल मार्केट गिरने की ओर इशारा करती हैं।
  • हरी कैंडल के बनने पर शेयर प्राइस बढ़ने लगता है और लाल कैंडल के बनते ही शेयर प्राइस गिरने लगता है।
  • प्रत्येक कैंडल में आपको दो चीजें देखनी पड़ती है; पहला बॉडी और दूसरा शैडो
  • अगर बड़ी green marubozu कैंडल बनती है तो यह बताती है कि अब यहां से शेयर मार्केट बहुत तेजी से बढ़ने वाला है।
  • इसी प्रकार अगर बड़ी red marubozu कैंडल बनती है तो यह बताती है कि अब यहां से शेयर मार्केट बहुत तेजी से बढ़ने वाला है।
  • ध्यान रखिए ग्रीन कैंडल में प्राइस हमेशा नीचे से ओपन होता है और ऊपर क्लोज होता है जबकि लाल कैंडल में प्राइस ऊपर ओपन होकर नीचे क्लोज होता है।

अलग-अलग प्रकार की बुलिश और बियरिश candles मिलकर ही कैंडलस्टिक चार्ट बनाती है जो आजकल सभी ट्रेडिंग एप्स में सबसे ज्यादा उपयोग किए जाते हैं।

तो अगर आपने कैंडलस्टिक चार्ट पेटर्न को पहचानना सीख लिया तो आप आसानी से बता देंगे कि आज शेयर मार्केट गिरेगा या बढ़ेगा।

3. इंडिकेटर से पता करें शेयर मार्केट बढ़ेगा या गिरेगा

शेयर बाजार में ट्रेडिंग करते समय लोग चार्ट पर अलग-अलग प्रकार के तकनीकी इंडिकेटर लगाते हैं। इनमें सबसे ज्यादा उपयोग मूविंग एवरेज इंडिकेटर का किया जाता है। यह तकनीकी इंडिकेटर पिछली प्राइस हिस्ट्री का एनालिसिस करके आने वाले समय में शेयर में क्या मूवमेंट होगी, वह बताता है।

कुछ लोग RSI इंडिकेटर बहुत ज्यादा इस्तेमाल करते हैं जिसका पूरा नाम है रिलेटिव स्ट्रैंथ इंडेक्स।

  • RSI तकनीकी संकेतक 1 से लेकर 100 के बीच मार्केट के बढ़ने या गिरने का संकेत देता है।
  • चार्ट पर यह इंडिकेटर एक सिंगल रेखा के रूप में दिखाई देता है जो मुख्यतः overbought और oversold zone प्रदर्शित करता है।

मान लीजिए आप जानना चाहते हैं कि कल शेयर मार्केट कैसा रहेगा तो आप निफ्टी 50 के चार्ट पर RSI इंडिकेटर लगा देंगे। इस संकेतक के अनुसार–

  • अगर मार्केट ओवरबॉट जोन में है तो इसका मतलब है कि जल्द ही शेयर मार्केट गिरेगा
  • और जब बाजार ओवरसोल्ड जोन में है तो समझ जाइये कि यहां से मार्केट बढ़ेगा।

इसके अलावा कुछ लोग यह पता करने के लिए कि शेयर बाजार बढ़ेगा या घटेगा, VWAP यानी (वॉल्यूम वेटेड एवरेज प्राइस) नामक तकनीकी इंडिकेटर का इस्तेमाल करते हैं। यह इंडिकेटर भी एक सिंगल लाइन के रूप में चार्ट पर दिखाई देता है।

Vwap इंडिकेटर को चार्ट पर लगाने के बाद आपको बस यह देखना होता है कि प्राइज कब इस इंडिकेटर के द्वारा खींची गई रेखा के समीप आता है।

आप देखेंगे कि जैसे ही प्राइस इस vwap रेखा के पास आएगा तो वहां से आपको reversel दिखेगा। और यह रिवर्सल ऊपर या नीचे किसी भी तरफ हो सकता है।

आप केवल इतना ध्यान रखें कि जिस तरफ रिवर्सल हो उसी तरह आपको ट्रेड करना है क्योंकि उसी तरफ मार्केट जाने वाला है चाहे वह ऊपर हो या नीचे।

  • Trading Meaning in Hindi (ट्रेडिंग क्या है कितने प्रकार की होती है और कैसे सीखें पूरी जानकारी विस्तार से)
  • Technical Analysis in Hindi ( टेक्निकल एनालिसिस की A to Z पूरी विस्तार से जानकारी)

4. विदेशी बाजार देखकर कल के मार्केट का प्रिडिक्शन करें

How to predict tomorrow market in hindi
Tomorrow share market prediction in hindi

विदेशी बाजार को देखने का मतलब है वहां के स्टॉक मार्केट और इकॉनमी को चेक करना। अगर विदेशी बाजारों में स्थिरता दिखाई देती है तो इंडियन शेयर मार्केट स्थिर रहेगा।

खासकर आपको अमेरिकन स्टॉक मार्केट पर नजर रखना है क्योंकि अमेरिका की economy पूरी दुनिया की सबसे बड़ी इकॉनमी है और इसीलिए वहां का शेयर मार्केट भी सबसे पुराना है।

  • तो अगर किसी कारण से अमेरिकन स्टॉक मार्केट में बड़ी गिरावट देखी जाती है तो भारतीय शेयर बाजार भी गिरेगा
  • और अगर अमेरिकन शेयर मार्केट में तेजी दिखती है जो इंडियन शेयर मार्केट भी बढ़ेगा।

अभी कुछ समय पहले रूस यूक्रेन युद्ध में रूस का शेयर मार्केट पूरी तरह तहस-नहस हो चुका था जिसका असर बाकी सभी देशों के शेयर बाजार पर भी दिखा।

लेकिन अब जरा सोच कर देखिए कि अगर ऐसा ही हाल अमेरिका के स्टॉक मार्केट का हुआ होता तो पूरी दुनिया की शेयर मार्केट की क्या दशा होती। जाहिर सी बात है उस स्थिति में रूस यूक्रेन युद्ध से भी बहुत बड़ा भयानक crisis देखने को मिलता।

इसीलिए मैं बार-बार कहता हूं कि इंडियन शेयर मार्केट कैसा रहेगा, बढ़ेगा या गिरेगा, ऊपर जाएगा या नीचे, इसका सबसे कम समय में पता लगाने के लिए आप अमेरिकन शेयर मार्केट देख सकते हैं।

5. प्राइस एक्शन से पता करें बाजार ऊपर जाएगा या नीचे

आपने देखा होगा कि बाजार एक ट्रेंड को फॉलो करता है।

  • अगर मार्केट ऊपर जाता है तो उसे uptrend बोलते हैं,
  • नीचे जाता है तो उसे downtrend बोलते हैं,
  • और अगर उसी रेंज में चलता है मतलब ऊपर या नीचे कहीं नहीं जाता तो उसे हम sideways market कहते हैं।

लेकिन इन तीनों ही trend में बाजार कभी भी एक सीधी रेखा के रूप में नहीं चलता है।

  • आप देखते होंगे कि अगर मार्केट uptrend में ऊपर जा रहा होता है तो वह बहुत बार ऊपर नीचे होता हुआ फाइनली ऊपर चला जाता है।
  • इसी प्रकार जब मार्केट downtrend में नीचे जा रहा होता है तो वह सीधी रेखा में नीचे नहीं जाता है बल्कि कभी ऊपर तो कभी नीचे होता हुआ फाइनली नीचे चला जाता है।

शेयर मार्केट के इस प्रकार मूवमेंट करने को ही प्राइस एक्शन कहा जाता है।

इसी प्राइस एक्शन को ट्रेड करके बहुत सारे प्रोफेशनल ट्रेडर्स दिन का लाखों रुपए कमाते हैं लेकिन उसके लिए आपको सालों साल प्राइस एक्शन strategy को सीखने की प्रैक्टिस करनी पड़ती है।

लेकिन अभी के लिए आप बस इतना समझ लीजिए कि प्राइस कभी ही सीधी रेखा में नहीं चलता है। मतलब कभी ऊपर तो कभी नीचे इस प्रकार हमेशा मार्केट और आपके पोर्टफोलियो में मूवमेंट होती है।

अगर आप प्राइस एक्शन को लगातार कुछ समय तक चार्ट पर देखने की प्रैक्टिस करेंगे तो आपके दिमाग में खुद से pattern बनने लगेंगे। फिर आप खुद से बता देंगे कि यहां से शेयर मार्केट ऊपर जाएगा और अब शेयर मार्केट नीचे जाएगा।

लेकिन ऐसा करने के लिए आपको बहुत कड़ी मेहनत और अनुभव की जरूरत होगी जो कि आपको केवल लगातार प्रैक्टिस के द्वारा ही प्राप्त हो सकता है।

6. पीसीआर डाटा से जाने आज शेयर मार्केट कैसा रहेगा

PCR यानी पुट कॉल रेश्यो डेटा जिसका उपयोग आप यह पता लगाने के लिए कर सकते हैं कि शेयर मार्केट बढ़ेगा या गिरेगा। वैसे तो पीसीआर डेटा का उपयोग ऑप्शन ट्रेडिंग करने के लिए किया जाता है लेकिन इस डाटा की मदद से आसानी से आप शेयर मार्केट बढ़ने या गिरने का अनुमान लगा सकते हैं।

पीसीआर डाटा को देखने के लिए आपको NSE की वेबसाइट पर जाकर ऑप्शन चैन देखना पड़ता है और उसी पेज पर आपको पीसीआर डाटा भी देखने को मिल जाएगा।

  • अगर आज यह डाटा नेगेटिव है तो इसका मतलब है कि आज शेयर मार्केट गिरने वाला है
  • और अगर कल PCR डेटा अगर पॉजिटिव होगा तो उसका मतलब होगा कि कल शेयर मार्केट बढ़ेगा मतलब शेयर बाजार में तेजी या उछाल देखने को मिलेगा।

पीसीआर, ऑप्शन चैन और ऑप्शन ट्रेडिंग के बारे में विस्तार से जानने के लिए नीचे दी गई पोस्ट जरूर पढ़ें–

  • Option Trading in Hindi (ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है, कैसे सीखें और पैसे कमाए पूरी विस्तारित जानकारी)
  • Option Chain in Hindi (ऑप्शन चैन क्या है और इसे कैसे समझें)

7. सेंसेक्स और निफ्टी की तरह विदेशी इंडेक्स देखें

जिस तरह भारत में निफ्टी और सेंसेक्स स्टॉक मार्केट का हाल-चाल बताती है उसी तरह विदेशों की भी स्टॉक मार्केट इंडेक्स होती है जो वहां के शेयर बाजार का हाल-चाल बताती हैं।

अगर आज इंडिया में निफ्टी या सेंसेक्स गिर रहा है तो आपको अमेरिका और अन्य देशों के स्टॉक मार्केट इंडेक्स भी चेक करना चाहिए ताकि आपको पता चल सके कि वहां पर same सिचुएशन है या इससे अलग।

  • अगर सभी देशों की स्टॉक मार्केट इंडेक्स में गिरावट हो रही है तो यह एक टेंपरेरी प्रॉब्लम है जो कुछ समय बाद ठीक हो जाएगी।
  • लेकिन अगर केवल इंडियन शेयर मार्केट गिर रहा है तो इसका मतलब है कि भारतीय कंपनियां अच्छा परफॉर्म नहीं कर पा रही हैं इसके बहुत सारे कारण हो सकते हैं।

अगर शेयर मार्केट गिरने का एक सबसे बड़ा कारण देखे तो वह महंगाई है जो लगभग सभी देशों के शेयर मार्केट पर प्रभाव डालती है। इसके बारे में विस्तार से जानने के लिए अपनी के लिए पोस्ट पढ़ सकते हैं–

FAQ’s (Kaise Pata Kare Aaj Share bazar badhega ya girega)

आपको कैसे पता चलेगा कि शेयर बाजार कब ऊपर जाएगा?

यह पता करने के लिए किस शेयर मार्केट कैसा रहेगा, आप ऑप्शन चैन डाटा के अंदर ओपन इंटरेस्ट देख सकते हैं अगर calls या buying side डाटा मजबूत है तो शेयर बाजार ऊपर जाएगा। लेकिन अगर puts या selling side डाटा मजबूत है तो शेयर बाजार नीचे जाएगा।

कल शेयर मार्केट बढ़ेगा या घटेगा?

अगर मार्केट में निवेशकों के बीच नेगेटिव सेंटीमेंट है ग्लोबल मार्केट में नेगेटिव खबर चल रही है, महंगाई बढ़ी हुई है, निफ्टी की टॉप कंपनियों के तिमाही नतीजे खराब आ रहे हैं तो शेयर मार्केट घटेगा या गिरेगा. और इसके विपरीत सिचुएशन होने पर शेयर मार्केट बढ़ेगा।

आज सेंसेक्स और निफ्टी ऊपर जाएगा या नीचे?

वैसे तो आप निफ्टी का चार्ट देखकर टेक्निकल एनालिसिस के जरिए आसानी से पता कर सकते हैं कि आज सेंसेक्स या निफ्टी गिरेगा या बढ़ेगा। एक बार ग्लोबल मार्केट पर भी नजर डाल लेना चाहिए क्योंकि अगर सभी देशों के मार्केट बुलिश हैं तो सेंसेक्स और निफ्टी के ऊपर जाने के चांसेस हैं। लेकिन अगर विदेशी बाजारों में गिरावट हो रही है तो निफ्टी और सेंसेक्स भी नीचे ही जाएगा।

निष्कर्ष (कल के शेयर बाजार की भविष्यवाणी कैसे करें)

इस पोस्ट में मैंने आपको बताया है कि आप कैसे पता करेंगे कि कल शेयर बाजार ऊपर जाएगा या नीचे. इसके लिए हमने काफी सारे पॉइंट देखे जिसमें चार्ट पेटर्न, कैंडलेस्टिक चार्ट, टेक्निकल एनालिसिस, ऑप्शन चैन, PCR डाटा, ग्लोबल मार्केट इंडेक्स और प्राइस एक्शन के बारे में समझा।

आशा करता हूं आपको इस पोस्ट में दी गई जानकारी उपयोगी लगी होगी।

ये भी पढ़ें,

अगर आपका इस पोस्ट से संबंधित कोई सवाल है तो नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर पूंछे।

4.6/5 - (9 votes)

Leave a Comment